KGF की असली कहानी सिर्फ मूवी नहीं रियल जिंदगी में(KGF Full Form)

KGF full form | KGF full form in Hindi

केजीएफ़  का फुल फॉर्म क्या है हिंदी में – का मतलाब  kolar Golf fields (कोलार गोल्ड फील्ड) है। यह भारत के कर्नाटक के कोलार में वत्सप से तालुक रखता है। यह भारत के प्रमुख खानों में से एक था, जो  2001 में बंद हो गया। KGF का  नाम बहुत प्रसिद्ध हो गया इसी वजह से इसे लोग जानने की कोसिस करने लगे देखते ही देखते इस  पर फिल्म भी बन गया |बर्तमान में कोलर जिले में करीब दो लाख आबादी हैं |

KGF का मतलब कोलार गोल्ड फील्ड(Kolar Gold Fields ) है। यह भारत के कर्नाटक के कोलार जिले में बांगरपेट तालुक में स्थित एक सोने का खनन क्षेत्र है। यह भारत की प्रमुख सोने की खानों में से एक थी, जो उत्पादन लागत में वृद्धि, जमा में कमी और कम सोने के उत्पादन के कारण 2001 में बंद हो गई थी। यह नाम इतना famous हो गया इन पर movies भी बन चुका हैं

केजीएफ का नाम सुनते हैं आपके मन में जरूर सवाल उठता होगा कि यहां फिल्म के बारे में चर्चा किया जा रहा है लेकिन असल में कर्नाटक में KGF एक  प्रसिद्ध स्थल है जहां सदियों से सोने की खदान था और 1990 से 2001 तक यहां सोने  निकाला जा रहा था यही कारण हैं  की KGF इतना प्रसिद्ध  हुआ | आए इस  atozfull form Blog के माध्यम से आपको KGF के सच्ची कहानी के बारें में विस्तार से बताता हूँ | इसे आप अंत तक जरूर पढ़ें |

KGF  full form -Kolar Gold Fields

कोलार गोल्ड फील्ड्स(Kolar Gold Fields)

KGF एक सोने की खदान था  जिसमें कर्नाटक  के  निवासी काम किया करते थे जिससे उसे काफी पैसा मिलता है और रोजगार भी मिला हुआ था | लेकिन जैसा कि आप सभी जानते हैं विदेशियों यानि( Britis) का भारत पर आक्रमण करने का मूल उद्देश्य धन दौलत  लूटना यानी सोना चांदी लूटकर ले जाना था और आखिरी यही हुआ ब्रिटिसों ने यहां से सभी सोने लूट लिए और भाग निकले |

मूवी KGF जोकि पहली बार 2018 में रिलीज हुआ था

और इसका दूसरा भाग 2020 में रिलीज हुआ है केजीएफ के डायरेक्टर प्रशांत सील है| KGF असल में सिर्फ मूवी ही नहीं निजी जिंदगी से भी यह ताल्लुक रखता है आप चाहे तो इसे फिल्म को देख भी सकते हैं |

KGF का History|KGF full form के इतिहास 

यह अतीत में सोने के लिए एक प्रसिद्ध स्थल था और दुनिया की दूसरी सबसे गहरी सोने की खदानें थी। इसके सुखद मौसम और मंत्रमुग्ध कर देने वाले परिदृश्य के कारण तत्कालीन ब्रिटिश आबादी द्वारा इसे “लिटिल इंग्लैंड” भी कहा जाता था। आज भी आप इस जगह पर ब्रिटिश बंगले, सुनियोजित सड़कों और संरचनाओं को देख सकते हैं। 1885 में केजीएफ में सोने की खदानों के ब्रिटिश कर्मचारियों के लिए एक गोल्फ कोर्स भी स्थापित किया गया था, और यह भारतीय गोल्फ संघ के तहत पंजीकृत है।परंतु सवाल यह उठता है की ब्रिटिश इस खान के बारे में कैसे पता चला |

जब 1863  64 के करीब ब्रिटिश के एक अधिकारी को  गुप्त सूचना के द्वारा इस सोने के खान के बारें में पता चला तो तुरंत उन्होने बिना देरी  किए आपने बड़े आधिकारी को इस सोने खान के बारें बता जिसे उसके आधिकरी चौक गए और पालन बनाया की क्यों न यहा पर एक सोने की फैक्ट्री लगाई जाय | उन्होने यही किया एक बड़ी सी सोने कंपनी लगा दी और Gold माइनिंग का production कम शुरू कर दिया | और कुछ ही दीनों में बहुत ही तेजी से  production कम  होने लगा |

KGF Gold खदान के लिए डैम क्यों बना ?

केजीफ गोल्ड के लिए डैम बनाने का मुख्य कारण था ब्रिटिश द्वारा लगाई गई फैक्ट्री से जो सोना निकाला जाता था वह बिलकुल साफ नहीं रहता था उसमें मिट्टी मिला हुआ रहता था जिस वजह से उसे सफाई करने के लिए पानी की काफी मात्रा में जरूरत होती थी जिसे कंपनी को पूरा करना मुसकिल कम था इसी वजह से डैम का निर्माण करना पड़ा | तब कंपनी ने कोलार जिले में फलार नदी पर एक डैम बनाया और इसी डैम में एक ऐसी मशीन लगा दिया जिसके द्वारा पानी सीधे कंपनी पहुंचाया जाता था जिससे सोने को सफाई में आसानी हो गई और समय तथा पैसे दोनों को बचत कंपनी को होने लगा _

Computer ka full form in Hindi

NITI AAYOG full form

5G full form | 5 G in india

केजीएफ के बारे में रोचक तथ्य

  • कोटिलिंगेश्वर, एक प्रसिद्ध भगवान शिव मंदिर, केजीएफ से 5 किमी की दूरी पर स्थित है।
  • KGF को बिजली प्रदान करने के लिए भारत में पहला जलविद्युत संयंत्र शिवानासमुद्र में बनाया गया था।
  • राष्ट्रीय खनिक स्वास्थ्य संस्थान का प्रधान कार्यालय भी केजीएफ में स्थित है।
  • सिलिकोसिस जो आमतौर पर खनन के कारण उत्पन्न होने वाली धूल के कारण होने वाली फेफड़ों की बीमारी है,
  • पहली बार केजीएफ में देखी गई थी।
  • दुनिया में पहली बार कॉस्मिक रे न्यूट्रिनो इंटरेक्शन 1965 में KGF में हुआ था।
  • यह भारत, जापान और यूके की संयुक्त परियोजना थी।
  • दुनिया की सबसे लंबी यात्री रेल, “स्वर्ण एक्सप्रेस” केजीएफ से बैंगलोर तक शुरू होती है।

क्यों बंद हुआ KGF ?

भारत में अग्रणी स्वर्ण खनन शहर।

लोलर गोल्ड Fiedss (KGF) एक आकर्षक इतिहास लाता है

खदानों का राष्ट्रीयकरण 1956 में हुआ था,

लेकिन 15 साल पहले बंद हो गया, घाटे के बाद,

यानि प्रबंधन ,गलत मूल्य निर्धारण नीति

और नए अन्वेषण में निवेश की कमी के कारण, खदानों को पानी से भर दिया गया।

तथा  इस खदान की बंद होने का मुख्य कारण है | इसकी अत्याधिक गहराई जिस वजह से इसके अंदर ऑक्सीजन की कमी हो रही थी जिससे यहां के कर्मचारियों को खदान के अंदर काम करने में काफी परेशानी हो रही थी बताया जा रहा है की  बहुत से कर्मचारियों की जान भी जा चुकी है ऑक्सीजन की कमी होने के कारण इसलिए सरकार में फैसला किया की इसे बंद किया जाए और यही मूल कारण है केजीएफ बंद होने का

Other KGF full form & categry

Kelowna Gospel FellowshipGeneral
Keratinocyte Growth FactorPhysiology
Kids Gourmet FoodFood & Nutrition
Kilogram Feetphysics
KingfisherLondon Stock Exchange
Known Good FiberGeneral
Kolar Gold FieldsRegional
Kredi Garanti FonuGeneral
KriegsGeFangene (Prisoner of war)
Krishi Gobeshona Foundation    Foundations

Next Topic   FULL  FORM

Mine closures

Spread the love

Leave a Comment

Translate »
%d bloggers like this: